फिल्म पद्मावती के प्रदर्शन के विरोध में गूंजे नारे

0
130

– ब्यूरो रिपोर्ट

मीरजापुर : पद्मावत फिल्म के प्रदर्शन को अपराध की श्रेणी में रखने की मांग को लेकर अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा की जिला इकाई ने जनपद मुख्यालय पर 19 जनवरी को प्रदर्शन कर राष्ट्रपति को संबोधित मांगपत्र जिलाधिकारी का सौंपा। इस अवसर पर आयोजित सभा में क्षत्रिय नेता राजेश सिंह ने कहा कि बालीवुड फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली द्वारा अपनी फिल्म पद्मावत, पूर्व में पद्मावती में ऐसे दृश्यों का फिल्मांकन किया गया है जो ऐतिहासिक तथ्यों से मेल नहीं खाते हैं और भारतीय लोक आस्था एवं जनभावना को मर्माहत करते हैं। देश की संस्कृति एवं इतिहास को विकृत कर प्रस्तुत कर रहे हैं। जबकि महारानी पद्मावती हमारे देश एवं हिंदू समाज का गौरव रही हैं।

क्षत्रिय समाज महारानी पद्मावती को देवीतुल्य मानता है। उनका जौहर एवं बलिदान विश्वप्रसिद्ध है। लेकिन कुत्सित मानसिकता के लोग इस बात को नहीं समझ रहे हैं और क्षत्रिय समाज को जानबूझकर आहत कर रहे हैं। अत: ऐसी फिल्मों के प्रदर्शन को अपराध की श्रेणी में रखा जाए। उन्होंने कहा कि मान सम्मान से समझौता नहीं होगा। क्षत्रिय समाज अब चुप नहीं बैठेगा। उन्होंने कहा कि क्षत्रिय समाज को एकजुट होकर आंदोलन करना होगा। यह लड़ाई मान सम्मान की है। इससे कोई समझौता नहीं होगा। इसके पूर्व घंटाघर से जूलूस निकालकर समाज के लोग कलेक्ट्रेट पहुंचे। इस अवसर पर प्रमोद सिंह चंदेल, संजय सिंह गहरवार, विकास सिंह, कान्हा सिंह गहरवार, प्रियांशु, अखिलेश सिंह, विवेक सिंह आदि थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.