वासना की आग में पति और बेटे की आहूति

0
1517
प्रतीक चित्र

» Story by T.C.Vishwakarma

उस दिन सुबह बलरामपुर जिले के उतरौला थाने पर इंस्पेक्टर के पद पर तैनात राजकुमार यादव के घर कंस्ट्रक्शन का काम करने आए मजदूर उनके छोटे भाई ओमप्रकाश यादव को आवाज देते हुए ऊपर पहुंचे तो, कमरे का दरवाजा खुला देख चैक पडे़। इतना आवाज देने के बाद भी अंदर भयावह सन्नाटा छाया हुआ था। यह देख मजदूर रामू का दिन धाड़-धाड़ पसलियों को ठोकर मारने लगा। धड़कते दिल के साथ वह खुले दरवाजे के भीतर दाखिल हुआ। उसकी आंशका निर्मूल नहीं थी। थोड़ा आगे बढ़ते ही बिस्तर पर खून से सनी ओमप्रकाश व उनके बेटे की लाश दिखाई पड़ी। नजारा इतना वीभत्स था कि रामू के मुख से चीख निकल गई और वह “खून….खून…” चिल्लाते हुए उल्टे पांव कमरे से बाहर की तरफ भागने ही वाला था कि बगल के कमरे से ओमप्रकाश की पत्नी अर्चना के चीखने की आवाज आने लगी। वह जोर-जोर से दरवाजा पीटकर दरवाजा खोल देने को कह रही थी। अर्चना के चीखने की आवाज सुनकर रामू चैका, पर डर के कारण वह रूका नहीं और उल्टे पांव नीचे की तरफ भागा।

अर्चना व ओमप्रकाश

रामू की चींख इतनी तेज थी कि घर के नीचे रहने वालों के साथ ही आस-पास के लोग चैंक पड़े और जो जैसे था, उसी दशा में चीख की तरफ दौड़ पड़ा। देखते ही देखते काफी संख्या में लोग जमा हो गए। इसी दौरान किसी ने उस कमरे का दरवाजा खोल दिया जिसमें से महिला की दरवाजा पीटने की आवाज आ रही थी। इस बीच किसी ने वारदात की जानकारी पुलिस को भी दे दी।

यह घटना 21 जनवरी 2016 की है। घटनास्थल था गोरखपुर जिले के शाहपुर थानाक्षेत्र का अशोकनगर बशारतपुर क्षेत्र। घटना की जानकारी शाहपुर थाना प्रभारी आनंद प्रकाश शुक्ला को मिली तो आनन-फानन में वह अपने वरिष्ठ अधिकारी डीआईजी आरके चतुर्वेदी व एसएसपी लव कुमार सहित अन्य अधिकारियों के देने के साथ ही दल-बल सहित घटनास्थल पर पहुंच गए।

अर्चना अपने बेटे के साथ

थाना प्रभारी श्री शुक्ला अभी घटनास्थल पर पहुंचे ही थे कि कुछ ही देर में क्राइम ब्रांच प्रभारी राजेश मिश्रा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के अलावा एसएसपी लव कुमार व डीआईजी आरके चतुर्वेदी भी घटना स्थल पर पहुंच गए। पुलिस अधिकारियों ने मौका मुआयना करने में जुट गये। मृतक ओम प्रकाश घर की दूसरी मंजिल पर बने फ्लैट में रहते थे। अंदर जाने के लिए सीढ़ी के पास एक मुख्य दरवाजा है। मुख्य दरवाजे से सटे कमरे में ओम प्रकाश, बेटे के साथ सोए थे। फ्लैट के मुख्य दरवाजे की बाहर की कुंडी टूटी थी। पुलिस के पल्ले यह बात नहीं पड़ रही थी कि कमरा अंदर से बंद होने पर बाहर की कुंडी तोड़ने का कोई तुक नहीं बनता। बाहर मौजूद व्यक्ति अंदर की कुंडी खुलने या टूटने पर ही अंदर जा सकता है। छत की तरफ खुलने वाले दरवाजे की भी उल्टे तरफ की ही कुंडी टूटी थी।

इस हालत में मिला था शव

कमरे में ओमप्रकाश और उनके चार वर्षीय बेटे का सोते समय कत्ल करने के संकेत दिखाई दे रहे थे। क्योंकि कमरे में या विस्तर पर संघर्ष का कोई निशान नहीं था। ओम प्रकाश पीठ के बल सोए थे। उनका सिर तकिये पर बाएं तरफ मुड़ा था। सिर का दाहिना हिस्सा ऊपर था। कातिल ने उसी पर वार किया था। बेटा नितिन भी उनके बगल में दाहिने तरफ पीठ के बल ही सोया हुआ था। उसी अवस्था में उसका गला घोंट दिया गया था। वहीं पास में खून से सना हथौड़ा पड़ा था। घर का सामान भी उधर-उधर बिखरा पड़ा था। पुलिस अधिकारियों ने अनुमान लगाया शायद इसी हथौड़े से प्रहार कर ओमप्रकाश की हत्या की होगी।

घटनास्थल पर जमा भीड़

पुलिस अधिकारी मौका मुआयना कर ही रहे थे कि इसी बीच मौके पर खेजी कुत्ता और फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट की टीम भी आ पहुंची। फिंगर प्रिंट युनिट ने संभावित जगह से उंगलियों के निशान उठाये। खोजी कुत्ते को भी छोड़ा गया, लेकिन कातिल के बारे में कोई सुराग नहीं मिला।

पूछताछ के दौरान कमरे में बंद ओमप्रकाश की पत्नी अर्चना ने बताया कि बुधवार को उनके पड़ोस में मैरिज एनिवर्सरी की पार्टी थी। पति और बेटा वहीं गए थे। रात करीब 10 बजे लौटे। बेटे के परेशान करने की वजह से वह बगल के कमरे में सो रही थी। भोर में उनकी नींद खुली तो देखा कि बाहर से दरवाजा बंद था। उसे दरवाजा खोलने की पूरी कोशिश की, पर नहीं खुला।

घटनास्थल पर सुराग लगाता जासूसी कुत्ता

साढ़े नौ बजे के आसपास दामाद की हत्या की खबर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात पीएसी में कंपनी कमांडर अर्चना के पिता दीपचंद यादव हो गयी। इसके कुछ देर बाद ही मुख्यमंत्री सुरक्षा के इंचार्ज शिव कुमार यादव ने अधिकारियों को फोन कर घटना का विवरण पूछना शुरू किया तो पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया।

ओम प्रकाश के साढ़ू भी 26वीं वाहिनी पीएसी में सिपाही हैं। उनके साथ के कुछ जवान इन दिनों राज्यपाल की सुरक्षा में राजभवन में तैनात हैं। घटना की जानकारी होने के बाद वे भी राजभवन से अपने परिचित पुलिस वालों को फोन कर घटना के बारे में बार-बार पूछताछ करने लगे। मामला हाईप्रोफाइल था। लिहाजा पुलिस मौके की सारी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद शव को सील मोहर कर पोस्टमार्टम के लिये चीरघर भेज दिया।

प्रथम दृष्टया मामला लूट व हत्या का था। लिहाजा प्ुलिस ने मृतक ओमप्रकाश की मां बागेश्वरी देवी की तहरीर पर अज्ञात बदमाशों के खिलाफ चेन-मोबाइल लूट और हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया।

मृतक के भाई

मामला दर्ज होते ही वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक लव कुमार ने इस प्रकरण का पर्दाफाश के लिए एक टीम गठित कर दी। टीम में थाना प्रभारी शाहपुर आनंद प्रकाश शुक्ला, इंस्पेक्टर कैंट श्याम लाल यादव, क्राइम ब्रांच प्रभारी राजेश मिश्रा, सब इंस्पेक्टर अनिल कुमार उपाध्याय (क्राइम ब्रांच) व धर्मेन्द्र सिंह प्रभारी (स्वाट क्राइम ब्रांच) को शामिल कर जल्द से जल्द इस ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी शीघ्र सुलझाने का आदेश दे दिया।

पुलिस टीम अपने स्तर से मामले के छानबीन में जुट गई। पूछताछ के दौरान ओम प्रकाश की मां बागेश्वरी देवी ने बताया कि उनके बेटे का पत्नी से अच्छा संबंध नहीं था। दोनों के बीच अक्सर विवाद होता रहता था। विवाद की वजह से करीब एक माह से बहू दूसरे कमरे में सो रही थी। विवाद के चलते ही घटना की रात पड़ोसी के घर आयोजित समारोह में ओम प्रकाश के साथ अर्चना नहीं गई थी।

बाागेश्वरी देवी ने पुलिस को बताया कि अर्चना फोन पर अकेले में काफी देर तक बात करती रहती थी। यह बात उसके बेटे

घटनास्थल पर जमा पुलिस बल

ओम प्रकाश को पसंद नहीं थी। इसी के चलते दोनों के बीच विवाद होता था। ओमप्रकाश शुरू-शुरू में अर्चना से

यह जानने का प्रयास किया कि वह किससे और क्या बात करती है, लेकिन वह जवाब देने की बजाय बात को टाल देती थी। दोनों के संबंधों में यहीं से दरार आनी शुरू हुई थी।

जानकारी चैकाने वाली थी लिहाजा पुलिस ने अर्चना का काल डिटेल निकलवाया तो पता चला कि एक विशेष नम्बर पर अर्चना काफी देर-देर तक बात बात करती थी। पुलिस ने जब इस बात की जानकारी अर्चना से करने के लिए पूछताछ की तो पहले वह इधर-उधर की बात बता कर पुलिस को गुमराह करने का प्रयास करने लगी। चूकिं मामला हाईप्रोफाइल था। जरा सी चूक में पुलिस की फजीहत हो जानी थी, पर काल डिटेल यह यह साफ कर दे रहा था कि कही कुछ न कुछ गड़बड़ जरूर है।

मृतक के परिजन

काफी सोच विचार के बाद 22 जनवरी पुलिस ने अर्चना को हिरासत में लेकर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक लव कुमार पूछताछ की तो वह अधिक देर तक टिक न पायी और कबूल कर लिया कि अपने फेसबुक मित्र के सहयोग से अपने पति और मासूम बेटे की हत्या का अपराध कबूल कर लिया। अभी कुछ ही देर बीता था कि अजय यादव को भी पुलिस ने गोरखपुर रेलवे स्टेशन के पास लकी ढाबे से गिरफ्तार कर पुलिस ने घटना में प्रयुक्त हथौड़ी, रस्सी, ओमप्रकाश का आधार कार्ड, निर्वाचन कार्ड, सोने का चेन, मोबाइल और 2210 रुपये के साथ ओमप्रकाश का पर्स भी बरामद कर लिया अंततः दोनों से की गई पूछताछ में जो कथा उभरकर सामने आई वह कुछ इस प्रकार बताई जाती है।

पेशे से नेत्र परीक्षक ओमप्रकाश यादव मूलरूप से गाजीपुर के रहने वाले थे। तीन भाईआंे में सबसे छोटे ओमप्रकाश वर्तमान में गोरखपुर जिले के शाहपुर थाना क्षेत्र के अशोकनगर बशारतपुर में अपने मझले भाई राज कुमार यादव के साथ उपरी मंजिल पर रहते थे। राजकुमार यादव बलरामपुर जिले के उतरौला थाने पर इंस्पेक्टर हैं। ओमप्रकाश जब 5 साल के हुए तभी उनके सर से बाप का खत्म हो गया। भाईओं ने ही पढ़ा लिखा कर काबिल बनाया था।

रोते-बिलखते मृतक के परिजन

ओमप्रकाश यादव बचपन से ही मिलनसार व शांत स्वभाव के इंसान थे। वह जब बचपन की दहलीज को पार कर जवानी की दहलीज में प्रवेश किया और पढ़-लिखकर नेत्र परीक्षक बन गए तब उनकी मां बागेश्वरी देवी ने अपने बेटों से राय मसवरा के बाद भारतीय मूल की सिंगापुरी लड़की के साथ शादी कर दी। लड़की के परिवार वाले मूलरूप से गोरखपुर के ही रहने वाले थे। किसी माध्यम से इस परिवार से ओमप्रकाश का संबंध हो गया। बाद में उनके परिवार की लड़की से उनके घर वालों शादी कर ली। वह लड़की सिंगापुर के किसी बैंक में काम करती थी। ससुराल आने के बाद वह लड़की परिवार से तालमेल नहीं बिठा सकी। इसलिए छह माह बाद ही तलाक लेकर वह सिंगापुर वापस चली गई। इसके बाद वर्ष 2009 में बड़े भाई मुसाफिर यादव के प्रयास से ओमप्रकाश की दूसरी शादी अर्चना के साथ हुई।

अर्चना के पिता दीपचंद यादव भी पीएसी में कंपनी कमांडर है। वर्तमान में वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात है। मूलरूप से गाजीपुर निवासी दीपचंद यादव भी ओमप्रकाश के घर के पास के ही रहने वाले है। बच्चों के अच्छे परवरिश के लिए वह लखनऊ में ही सेटल हो गए थे। अर्चना का बचपन भी लखनऊ में ही बीता, यहीं से ही वहीं पली बढ़ी।

रोते-बिलखते मृतक के परिजन

यूं तो उनका अर्चना बचपन से ही खूबसूरत थी, लेकिन जब उसने जवानी की दहलीज में कदम रखा तो उसकी सुन्दरता और भी निखर आई थी। लिहाज उसके मन में अपनी सुन्दरता का अभिमान हो गया था। साथ ही परिवार वालों के अत्यधिक लाड़-प्यार ने अर्चना को और भी उच्छृंखल बनाकर रख दिया। दिनों दिन उसकी आकांक्षाएं पल्वित होती जा रही थीं। परिवार में कमाई का कोई टेंसन नहीं था।

अर्चना 19वें साल में कदम रख चुकी थी। उसका गोरा रंग, बड़ी-बड़ी आंखें। साधारण होने के बावजूद भी उसे आकर्षक बनाते थे। खास बात यह थी कि उसे सज-संवर कर रहने की बीमारी थी। भले ही कहीं आना-जाना न हो, किन्तु वह रोजाना घंटों आइने के सामने बैठकर बनाव-शृंगार करती रहती थी। मां को उसकी यह आदत बुरी लगती थी, मगर उसकी खुशियों को ध्यान में रखते हुए कुछ कहती नहीं थी।

अर्चना व ओमप्रकाश (शादी के समय की फोटो)

अब उसकी अपनी एक अलग दुनिया थी ‘सपनों की दुनिया’ जहां वह सपनों में ही जीती थी। सपने ही उसके सब कुछ थे। वह सपनों के साथ खेला करती थी, उन्हें तोड़-मरोड़ कर अपने हक में करती थी। वह नहीं जानती थी कि ये सपने ही एक दिन उसके सबसे बड़े शत्रु बन जायेंगे।

जैसा कि आमतौर पर देखा जाता है कि जवानी की डगर पर कदम रखते ही युवतियां एक सुन्दर-सजीले जीवन साथी की कल्पनाओं में जीने लगती हैं। भावी पति में जाने कौन-कौन सी विशेषतायें उनकी कल्पनाओं में छाती चली जाती हैं। ऐसा ही कुछ अर्चना के साथ भी हो रहा था। वह दिन-रात एक आकर्षक युवक के सपनों में खोई रहती। पति के रूप में वह एक ऐसे युवक की कल्पना करती, जो उसके तमाम सपनों को साकार कर सके।

अर्चना

अर्चना सयानी हो गई है। यह अहसास उसके घर वालों को हो चुका था। उन्होंने अर्चना के लिए घर-वर देखना शुरू करने के साथ ही अपने नाते रिश्तेदारों को भी बेटी के लिए योग्य वर तलाशने के लिए सहेज दिया था। जल्द ही अर्चना के घर वाले और रिश्तेदारों की मेहनत रंग लाई। एक परिचित के माध्यम से अर्चना के लिए गोरखपुर जिला के नेत्र परीक्षक ओमप्रकाश के बारे में पता चला। कुल मिलाकर अर्चना के घर वालों को ओमप्रकाश हर तरफ से अपनी बेटी के योग्य लगा। बस कमी थी तो यह कि ओम प्रकाश की शादी एक बार पहले भी हो चुकी थी। घर वालों से राय-मसवरा के बाद अर्चना के पिता दीपचंद यादव ने ओमप्रकाश के घर वालों से मिलकर रिश्ते की बात चला दी।

ओमप्रकाश के परिवार वालों ने अर्चना को देखा। पहली नजर में ही अर्चना ओमप्रकाश के घर वालों को भा गई। फिर बात आगे बढ़ी, लेन-देन तय हुआ और ओमप्रकाश की शादी अर्चना से तय हो गई। इसके बाद विवाह की तारीख पक्की हो गई।

अर्चना

तय समय पर ओमप्रकाश की बारात अर्चना को लिवा ले जाने के लिए उसकी चैखट पर आ पहुंची। धूमधाम से शादी की रस्में पूरी की गई, फिर आई विदाई की बेला। विदाई के समय अर्चना के परिजन जहां फूले नहीं समा रहे थे, वहीं दूसरी ओर उन्हें बेटी की जुदाई का दर्द भी था, लेकिन यह तो परंपरा थी। पराई अमानत तो घर से विदा तो करना ही था।

विवाह के बाद अर्चना ओमप्रकाश की दुल्हन बन उसके घर आ गई। घर भी किसी चीज की कोई कमी नहीं थी, ना ही परिवार बड़ा था, अतः गृहस्थी की गाड़ी सुचारू रूप से चल पड़ी। शादी के लगभग तीन साल बाद अर्चना ने एक बेटे को जन्म दिया, तो पति-पत्नी की खुशी दोगुनी हो गई। एक बच्चे की मां बन जाने के बाद अर्चना की जिम्मेदारियां भी बढ़ गई। वह शुरू से ही आजाद ख्यालों की थी घर परिवार के बंधन से वह उब चुकी थी। लिहाजे वह पति से अलग रहने के लिए दबाव बनाने लगी।

आरोपी अजय यादव

शांत स्वभाव का ओमप्रकाश यह नहीं चाहता था। इसके बावजूद अर्चना अपने जेठ-जेठानी से अलग खाना बनाने लगी तो मजबूरन ओमप्रकाश को भी अर्चना का साथ देना पड़ा। अब तो घर के काम काज के बाद अर्चना के पास काफी समय बच जाता था। इस समय को काटने के लिए उसने सोशल साइट फेसबुक पर अपना एकाउंट खोल लिया और दिन भी इसी पर अपने दोस्तो के साथ समय बीताने लगी।

बात आठ महीने पहले की है। अर्चना घर के काम से फ्री होकर फेसबुक आन किया तो काफी फ्रेन्ड रिक्वेस्ट आई हुई थी। वह इन में से कुछ को तो डिलीट कर दिया पर अचानक एक रिक्वेस्ट पर उसकी नजर स्थित हो गई। मुलायम सिंह यादव यूथ ब्रिगेड सपा के पूर्व प्रदेश सचिव अजय यादव की थी। अजय यादव की प्रोफाइल में मुलायम सिंह यादव, शिवपाल, डिंपल और अखिलेश यादव के साथ अजय की फोटोज देखकर वह उसकी दोस्त बन गई। कारण उसका भी राजनीति की तरफ जाने का झुकाव था। वह जब भी किसी नेता को देखती थी या फिर टीवी में उनका बयान सुनती थी तो कहती थी कि इनके ठाट हैं। असल मायने में ये ही जिंदगी जीते हैं। यही चीजें वह परिवार के लोगों से भी बताती थी।

पुलिस हिरासत में अर्चना व अजय यादव

अजय यादव फिरोजाबाद जिले के शिकोहाबाद थानाक्षेत्र के स्वामीनगर निवासी श्याम बाबू यादव का बेटा है। वह पेशे से शिक्षक है। अजय की प्रोफइल से उसे लगता था कि बड़े कान्टैक्ट वाला ये आदमी उसे राजनीति की बुलंदी तक पहुंचने में मददगार साबित हो सकता है।

धीरे-धीरे बातचीत का सिलसिला शुरू हुआ तो जल्द ही वह अजय यादव से और प्रभावित हो गयी। और दोनों ने एक दूसरे को अपना मोबाइल नम्बर दे दिया। अब उनकी बात मोबाइल पर भी होने लगी। धीरे धीरे उनकी यह दोस्ती प्यार में बदल गई।

कचहरी में आरोपियों को देखने के लिए उमड़ी भीड़

अर्चना फोन पर अकेले में काफी देर तक बात करती रहती थी। यह बात ओमप्रकाश को पसंद नहीं थी। शुरू-शुरू में उन्होंने पत्नी से जानने का प्रयास किया कि वह किससे और क्या बात करती है, पर इसका जवाब देने की बजाय अर्चना बात को टाल देती थी। धीरे-धीरे इन्हीं सब बातों को लेकर दोनों के संबंधों में यहीं से दरार आनी शुरू हो गयी। इसी दौरान एक बार अर्चना का लखनऊ जाना हुआ तो उसने अजय को भी मिलने के लिए लखनऊ बुला लिया। अर्चना के बुलावे पर अजय लखनऊ आ गया।

अजय जब अर्चना से मिलने उसके मायके आया था संयोग से उस समय घर पर कोई नहीं था। यहीं इनकी पहली मुलाकात हुई इस मुलाकात में अर्चना अजय से इतनी प्रभावित हुई कि वह यह भूल गई कि वह शादी शुदा और एक बच्चे की मां है। अजय तो फेसबुक पर अर्चना की प्रोफइल फोटो में बेमिसाल हुस्न देखकर दीवाना हो चुका था। जब उसे अर्चना की तरफ से ग्रीन सिग्नल मिला तो वक्त ना गंवाते हुए उसने अर्चना को अपनी बांहों में भर लिया।

“क्या कर रहे हो दिमाग तो नहीं खराब है तुम्हारा… छोड़ो मुझे, कोई देख लेगा तो..” अर्चना बनावटी गुस्सा दिखाई।

आरोपियो से बरामद सामान

अजय अब कहा मानने वाला था। वह अपनी बाहों का कसाव और भी मजबूत कर दिया। अर्चना के शरीर में सिहरन सी दौड़ गई। वह अजय की बाहों से निकलने को कसमसाई, मगर उसने ने उसे नहीं छोड़ा। अजय के हाथ उसके कपड़ों के भीतर छिपे सौंदर्य का जायजा लेने लगे। कुछ ही क्षणों में अर्चना का बनावटी विरोध भी समाप्त हो गया, और वह उसका साथ देने लगी। कमरा उनकी उत्तेजक सिसकारियों से गूंज उठा और देखते ही देखते वे एक दूसरे में समाहित हो गये। उस दिन के बाद तो उनके शारीरिक मिलन का सिलसिला ही चल निकला। जब भी दोनों का मन होता ससुराल में भी अर्चना अपने पति की अनुपस्थिती में बुला लेती और कुछ देर रासलीला रचाने के बाद अजय वापस चला जाता।

इस दौरान अर्चना ने ही अजय से बताया कि वह पति और बच्चे से छुटकारा चाहती है। फिर दोनों ने मिलकर इस हत्याकांड का प्लान तैयार कर लिया। 20 जनवरी को योजना के मुताबिक अजय ट्रेन से गोरखपुर पहुंचा और सब की नजर बचा कर अर्चना के घर जाकर मिला। उस समय ओमप्रकाश अपने बेटे के साथ पड़ोस में एक पार्टी में गए हुए थे। अजय को देखते ही अर्चना उसके आगोश में समा गई। कुछ देर तक दोनों जमकर अपने जिश्म की प्यास बुझाई। ओमप्रकाश के आने के पहले अर्चना ने अजय को बगलवाले कमरे में सुला दिया।

मिडिया के आरोपियो को हाजिर करते पुलिस अधिकारी

रात 10 बजे पार्टी से लौटने के बाद पत्नी के मनसूबों से अन्जान ओमप्रकाश अपने बेटे के साथ बेड पर सो गया। रात 12 बजे के बाद अर्चना ने अजय के मोबाइल पर फोन करके पति और बच्चे के सो जाने की जानकारी दी। इसके बाद दोनों हथोड़ा लेकर कमरे में गए और ओमप्रकाश यादव का सिर कुंच डाला। इस बीच बेटे नितिन की आॅख खुल गयी तो दोनों डर गये कि राज फाॅस न हो जाय, यह सोचकर दोनों ने उसका गला दबाकर हत्या कर दी। घटना को लूट का रूप देने के लिए दोनों ने कमरे का सामान बिखेर दिया। प्लान के अनुसार अजय ने अर्चना को बगल के कमरे में प्लान के तहत भेज दिया और बाहर की कुंडी बंद कर फरार हो गया।

आखिरकार पूछताछ के बाद सारी औपचारिकताएं पूरी कर पुलिस ने डबल मर्डर के आरोपी अर्चना यादव और उसके प्रेमी अजय यादव को सीजेएम नियाज अहमद अंसारी की कोर्ट में पेश कर दिया जहां से उन्हें न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया। कथा लिखे जाने तक अर्चना व अजय जेल में अपने कुकर्माे की सजा भोग रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.