बार एसोसिएशन में गंगा-हरीतिमा कार्यक्रम आज

0
100

रिपोर्ट : सलील पाण्डेय

मीरजापुर : अंतरराष्ट्रीय पृथ्वीदिवस और गंगा-सप्तमी पर 22 अप्रैल को अपराह्न 2 बजे से सायं 4 बजे तक सिविलकोर्ट स्थित बार एसोसिएशन में विशेष कार्यक्रम वन विभाग द्वारा आयोजित किया जा रहा है। इसमें मुख्य अतिथि नगर विधायक एवं धर्म के विशेष जानकार तीर्थ पुरोहित रत्नाकर मिश्र मुख्य अतिथि होंगे जबकि अध्यक्षता सलिल पांडेय करेंगे। इस अवसर पर गंगा किनारे वृक्षारोपण भी किया जाएगा। डीएफओ राकेश चौधरी के न्याय-परिसर में इस कार्यक्रम को आयोजित करने की मंशा की सराहना प्रबुद्धवर्ग ने की है क्योंकि धरती और गंगा की पवित्रता भी न्याय का तकाजा है। इसकी रक्षा से ही मनुष्य तमाम संकटों, प्रदूषणों के बन्धन से बच सकेगा।

पृथ्वी-दिवस एवं गंगा-सप्तमी की कथा

महादेव द्वारा गंगा को सिर पर धारण करने से पार्वती रुष्ट हो गयी थीं। पुत्र गणेश से कहा कि वे गंगा को पिता महादेव के सिर से नीचे उतारे। गणेशजी समझ गए कि माता पृथ्वी पर जल-संकट को दूर करना चाहती हैं। गणेश जी ने यत्नपूर्वक माता गंगा को धरती की ओर उन्मुख किया।

गंगा-सप्तमी

वृहद्धर्मपुराण की कथा के अनुसार हिमालय के घर अक्षय तृतीया को प्रकट हुई गंगा धरती की ओर आयीं। जह्नु ऋषि ने क्रोध में पी लिया। भगीरथ के अनुरोध पर सप्तमी को ऋषि के जांघ से बाहर निकली। इसके अनुसार उनका नाम जाह्नवी हुआ।

ऋषि-मुनि गंगा के अधिवक्ता ही थे

महादेव की जटा से गंगा इसलिये धरती पर नहीं आ रहीं थीं कि लोग गंगा को गंदा कर देंगे। लेकिन जब गंगा को पता चला कि ऋषि-मुनि गंगा के पक्ष में जप कर रहे हैं तब वे आने के लिए राजी हुई। इस तरह ऋषि मुनि गंगा के अधिवक्ता ही हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.