“मेरी पतवार बन जाओ”

गीतकार/कवि : सुशांत प्रियांश   भटकता मैं फिरू दर-दर मेरी करतार बन जाओ। मेरी कश्ती भंवर में डोले, मेरी पतवार तुम बन जाओ। गुजरा खेल में मेरा...

🙏 पुलवामा के शहीदों को शत शत नमन 🙏

"लावणी छंद में अश्रुपूरित श्रद्धांजलि" रीना गोयल की कलम से बने पतित ये पाकिस्तानी,...

AJAB-GAJAB

Stay connected

3,512FansLike
38FollowersFollow
6,716SubscribersSubscribe
- Advertisement -

HOT NEWS

MOST POPULAR

error: Content is protected !!